Posts

Showing posts from December, 2016

इश्क़ मेँ कुछ ऐसा हो जाता है

सुना है इश्क़ मेँ कुछ ऐसा हो जाता है
खामोश हवाओं में दर्द नज़र आता है
खामोशियाँ लगती हैं सताने ऐसे
की हर तरफ़ मेहबूब नज़र आता है।

आदतें लगती हैं बुझाने पहेलियाँ
ताने लगती हैं मारने सहेलियाँ
सन्नाटों की क्या कहिये, बिना 'उनके'
महफ़िलों में भी कहाँ सुकून आता है ।

जब देखतें हैं नज़रों में  उनकी
तो मयख़ाने याद आते हैं
डूब कर इश्क़ में उनके
छलकते पैमाने याद आते हैं
हो कर फ़ना इश्क़ में
हीर रांझे दीवाने याद आते हैं ।



happy birthday to you

Jab tak meri saans dil me hai
Tab tak teri yaad mere dil me hai
Na koi fikr tuje meri beshak kuch to jazbaat zinda aaj bhi tere dil me hai

happy birthday to you.