Posts

Showing posts from September, 2017

चलो रे चलो

चलो रे चलो
ले चलो उस जहान
अज़ाने न हों
ना हों खामोशियाँ
मेले ना हों ना हों तन्हाईयाँ
शिद्दत्त ना हों न ही हो शोखियाँ
ना उजाले ही हों ना हों परछाईयाँ
इतनी सी है बस मेरी इल्तज़ा
ईबादत मेरी ना बने सुर्खियाँ

आप से मिल के

आप से मिल के मानो
ऐसा लगा
आप से कई जन्मों
का नाता रहा

आप की
एक हसी ने
किया वो असर
तन्हा  दिल को मेरे
मिल गया हमसफ़र

आप के होठों
पे थी खामोशियाँ
आप की नज़रो
में थी वो  शर्मोहया
बात होती रही
हम तुम में मगर
दिल ने दिल से कहा
दिल ने दिल को सुना

जो जज़्बात थे
दिल में उनके लिए
दिल ने मेरे सब
लिख तो लिए
कैसे कहें इनको
उनसे मगर
दिल को मेरे
थोड़ा  लगता है डर

जो हाँ कर सको
एक वादा करो
साथ दोगे मेरा
तुम उम्रभर

अदला बदली

बादल ने धरती से,
जाने क्या कह दिया,
बूंदों की अदला बदली का
शुरू हो गया सिलसिला
बादल में जो घुमड़ रहा
वो धरती का दिल है
हाँ धरती का दिल है।

चंद्रमा ने निशा से,
जाने क्या कह दिया
चांदनी की अदला बदली का
शुरू हो गया सिलसिला,
चाँद में जो चमक रहा,
वो निशा का दिल है
हाँ निशा का दिल है।

भँवरे ने फूलों से,
जाने क्या कह दिया,
रस की अदला बदली का
शुरू हो गया सिलसिला,
फूलों पर जो छूट गया
वो भँवरे का दिल है
हाँ भँवरे का दिल है।

सूरज ने भोर से,
जाने क्या कह दिया,
अरुनाली की अदला बदली का
शुरू हो गया सिलसिला,
सूरज में जो धधक रहा
वो भोर का दिल है
हाँ भोर का दिल है।

नैनों ने इक दूजे से,
जाने क्या कह दिया,
दिलों की अदला बदली  का,
शुरू हो गया सिलसिला
इस सीने में जो धड़क रहा,
वो तेरा ही दिल है
हाँ तेरा ही दिल है।